Rafale Fighter Jet for India

Rafale Fighter Jet for India- Rafale Kya Hai | राफेल क्या है

Rafale Kya Hai: भारतीय वायुसेना की शान बनने जा रहे Rafale Fighter Jet for India अपने आप में कई खूबियों से लैस हैं | वायुसेना में मात्र 5 Jets के शामिल होने से ही दुशमनों में खौफ है | Rafale Fighter Jets का निर्माण फ्रांस की डेसॉल्ट एविएशन द्वारा किया गया है | डेसॉल्ट एविएशन कंपनी द्वारा निर्मित प्रथम A श्रेणी के विमान ने 4 जुलाई 1986 को पहली बार उड़ान भरी थी | इसके अलावा C श्रेणी के विमान द्वारा 19 मई 1991 को पहली बार उड़ान भरी थी|

डेसॉल्ट एविएशन कंपनी द्वारा इन विमानों का निर्माण सिंगल सीट तथा डबल सीट दोनों रूपों में किया जाता है | फ़्रांसिसी कंपनी द्वारा इनके निर्माण के दौरान इन्हें A, B, C तथा N श्रेणियों में विभाजित किया जाता है | वर्तमान में केवल 2 देश मिश्र तथा फ्रांस ही Rafale Fighter Jet का प्रयोग करते हैं |

Configuration of Rafale Fighter Jet for India | भारत के लिए राफेल फाइटर जेट का विन्यास

Rafale Fighter Jet for India

यदि हम कॉन्फ़िगरेशन की बात करें तो रफाले फाइटर जेट्स के निर्माण में कंपनी द्वारा निम्न उपकरण शामिल किये हैं| Rafale Fighter Jet for India.

FeaturesDescription
Rafale EngineM-882E (Super Cruise)
Redder RBE2 Russian Redder (Cover 150 KM range)
(Hit 40 Target at a Time)
Tank Fuel Capacity15590 Gallen
Total length of Jet15.30 Meter
Height from Ground5.30 Meter
Wings Length10.90 Meter
OxygenInbuilt Oxygen Generating System

राफेल क्या है, जानें इसकी क्षमता कैसी है?

राफेल की प्रमुख विशेषताएं है| यह एक मल्टीरोल फाइटर विमान है, जिसके KEY Features निम्नानुसार हैं-

  1. राफेल जेट बहुत ही कम ऊंचाई पर उड़ने में सक्षम है |
  2. यह विमान परमाणु हमला करने में सक्षम है |
  3. Rafale Fighter Jets को हवा से हवा में मिसाइल दागने में महारत हासिल है|
  4. किसी भी प्रकार के मौसम में कार्य करने में सक्षम है |
  5. लंबी दूरी के किसी भी खतरे को आसानी से पहचानने की क्षमता है |
  6. यह फाइटर जेट अपने वजन से 1.5 गुना वजन उठाने में सक्षम है |
  7. राफेल 4.5 Plus Generation का फाइटर जेट है |
  8. राफेल फाइटर जेट एक Semi Stealth फाइटर जेट है |

Aayushman Bharat Yojna in Hindi PDF 2020 | [PMJAY]

Rafale Fighter Jets की विमानन क्षमता क्या है?

Rafale Jets की यदि हम बात करें तो इसकी Specialty सबको चौकाने वाली है जो निम्नानुसार है-

  1. Rafale Fighter Jets को ऑक्सीजन जनरेटिंग सिस्टम से लैस किया गया है, जिससे इसमें अलग से लिक्विड ऑक्सीजन भरने की आवश्यकता नहीं होती है |
  2. 1 मिनट में 50000 फिट की ऊंचाई को छूने में सक्षम हैं |
  3. यह विमान 55000 फिट की ऊंचाई से हमला करने में सक्षम है |
  4. इन विमानों की उड़ान भरने की क्षमता 36000 फीट से लेकर 50000 फीट है |
  5. Rafale Jets की रेंज कवर करने की क्षमता लगभग 3700 किलोमीटर है |
  6. 2222 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से यह विमान उड़ान भर सकता है |
  7. यह विमान 1 मिनट में कम से कम 2500 गोले दागने में सक्षम है |
  8. Rafale Fighter Jets एक बार में ईंधन ले जाने की क्षमता लगभग 15590 गैलन है |
  9. यह विमान एक बार में 2000 समुद्री मील तक उड़ान भरने में सक्षम है |
  10. इस विमान में उपयोग किया गया कैमरा 1 टन वजनी है, जिसके द्वारा जमीं पर पड़ी गेंद का भी साफ़ फोटो लिया जा सकता है |
Rafale Fighter Jets

Bhartiya Vayu Sena Bharti ki जानकारी- भर्ती से वेतन तक 2020

Indian Rafale Fighter Jets की क्या विशेषताएँ हैं?

भारतीय Rafale Fighter Jets एडवांस टेक्नोलॉजी से लैस किये गए हैं | इनके निर्माण के दौरान देश की जरूरत को ध्यान में रखा गया है | इसमें निम्न अन्य खासियतों को शामिल किया गया है-

  1. हेलमेट माउंटेड साइट्स तथा लक्ष्य को भेदने वाली प्रणाली से भारतीय राफेल जेट्स को लेस किया गया है | इससे राफेल के पायलटों को कम से कम समय में हथियार शूट करने में दक्षता हासिल होगी |
  2. बहुत अधिक ऊंचाई वाले युद्ध क्षेत्रों से उड़ान भरने में इसे सक्षम किया गया है |
  3. इस विमान में खास तकनीकी का प्रयोग मिसाइल अटैक से बचने हेतु किया गया है |
  4. Electronic Scanning Radar लगे होने से इसके द्वारा दुश्मन की Real Time Position को 3D Mapping से खोजने में महारत हासिल है |
  5. इसमें प्रयोग किया गया स्पेक्ट्रा सिस्टम एडवांस वार्निंग प्रदान करता है |

Chief of Defense Staff | भारतीय सेना में सीडीएस पद क्या है?

Missiles Rafale Fighter Jets

Rafale Fighter Jets के साथ अत्यधिक क्षमता तथा सटीक निशाना लगाने में सक्षम मिसाइल सिस्टम के कॉम्बिनेशन को तैयार किया गया है | जिससे यह बहुत ही घातक फाइटर बनकर उभरा है | देश को प्राप्त 5 रफाले फाइटर जेट्स में निम्न मिसाइल को सामिल किया गया है-

  1. Meteor Missile System
  2. Scalp Missile System
  3. MICA Missile System

Rafale की Missile System की Complete जानकारी

योंही भारतीय राफेल फाइटर की चर्चा दुनिया में नहीं हो रही है इसमें उपयोग किये गए सभी सिस्टम एडवांस्ड टेक्नोलॉजी से लेस हैं | इसके अलावा इनमें प्रयोग की जाने वाली मिसाइल अपने आप में जबरजस्त हैं | आईये समझते हैं, प्रत्येक मिसाइल की खासियत क्या है ?

Meteor Missile System

Meteor Missile System की क्या विशेषताएँ है?

अपनी श्रेणी में दुनिया की सबसे खतरनाक मिसाइलों में से एक Meteor missile एक बियोंड विजुअल रेंज (DVR) मिसाइल है जिसकी निम्न विशेषताएँ हैं-

  1. Meteor missile नेक्स्ट जेनरेशन एक्टिव रडार गाइडेड मिसाइल सिस्टम है |
  2. इस मिसाइल की ऑपरेशनल रेंज 160 किलोमीटर है तथा यह अधिकतम MAC 4 यानी 4939 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से टारगेट हिट करने में सक्षम है |
  3. Meteor missile हवा से हवा में मार करने में सक्षम है |
  4. ओवर ऑल लाइफ लॉजिस्टिक सपोर्ट कॉस्ट को इस मिसाइल का डिजाइन कम करता है |
  5. यह मिसाइल स्टेल्थ मिसाइल के समान ही लांच की जा सकती है |
  6. यह ऑल वेदर कंडीशन में एक साथ कई टारगेट को आसानी से डिस्ट्रॉय करने में सक्षम है |
  7. एयर टू एयर मिसाइल श्रेणी में इस मिसाइल सिस्टम का 60 किलोमीटर की रेंज में No Escape Zone सबसे अधिक है |
  8. यह मिसाइल पूरी तरह से एक कंप्लीट यूनिट के तौर पर डिजाइन की गई है |
  9. इस मिसाइल को गाइड करने के लिए Active Radar की आवश्यकता होती है, इसके लिए इसमें सीकर एक्टिव रडर यूज़ किया गया है |
  10. वर्तमान में Meteor missile का प्रयोग Euro Fighter Jet, Typhoon Fighter Jet, Rafale Jet, Saab JS, 39 Gripen आदि फाइटर जेट्स में किया जा रहा है |

Loco Pilot Kise Kahte Hai | लोको पायलट किसे कहते हैं?

Scalp Missile System की क्या विशेषता है? 

फायर एंड फॉरगेट के आधार पर कार्य करने वाली यह मिसाइल Storm Shadow Missile के नाम से भी जानी जाती है | जिसकी निम्न विशेषताएँ हैं –

Scalp Missile System
  1. Rafale Fighter Jets में प्रयोग की जाने वाली यह मिसाइल एक लो ओब्सरेबल एयर लॉन्च क्रूज मिसाइल सिस्टम है |
  2. हाई वैल्यू fixed टारगेट को Pre-Planned तरीके से डिस्ट्रॉय करने हेतु इस मिसाइल सिस्टम का खास तौर पर प्रयोग किया जाता है | इसके प्रमुख टारगेट होते हैं – पुल, सड़क-रेल मार्ग, पावर प्लांट, एयरफील्ड, दुश्मनों के बंकर, कमांड एंड कंट्रोल सेंटर आदि |
  3. इस मिसाइल की ऑपरेशनल रेंज 300 Plus किलोमीटर है तथा यह 1000 कि.मी./घंटे की रफ्तार से अपने टारगेट को हिट करने में सक्षम है | इस मिसाइल की वास्तविक रेंज 560 किलोमीटर है |
  4. Rafale Fighter Jets में प्रयोग की जाने वाली इस मिसाइल सिस्टम में प्रॉपर गाइडेंस के लिए Inertial Navigation System, TERPROM (Terrain Profile Matching) Military Navigation Ground Proximity Warning System जैसे गाइडेड सिस्टम का प्रयोग किया गया है |
  5. इस मिसाइल को Sifted Target को destroy करने के लिए पहचाना जाता है |
  6. इसे एक बार छोड़ने के बाद बीच में रोका नहीं जा सकता है तथा यह अपने टारगेट को अंदर तक घुसकर मारती है |
  7. इस मिसाइल के प्रयोग द्वारा एयर डिफेंस सिस्टम को भी नष्ट किया जा सकता है |
  8. इसके लिए यह अपना रास्ता साफ करके जाती है, इसलिए यह बंकर के अंदर मौजूद टारगेट को नष्ट करने में सक्षम है |

Motor Vehicle Act 2019 in Hindi PDF Free | नवीन 63 उपबंध

Mica Missile System की क्या विशेषता है?

Rafale Fighter Jets में प्रयोग की जाने वाली यह मिसाइल सिस्टम एक मल्टी मिशन एयर टू एयर मिसाइल सिस्टम है | जिसकी निम्न विशेषताएँ हैं –

Mica Missile System
  1. इस मिसाइल को मिराज 2000 फाइटर जेट के लेटेस्ट वर्जन मिराज 2005 में भी प्रयोग किया जा सकता है |
  2. डिमांडिंग ऑपरेशन को पूरा करने में इस मिसाइल सिस्टम का प्रयोग सर्वाधिक किया जाता है |
  3. यह मिसाइल सिस्टम अलग-अलग भूमिका निभाने में सक्षम है –
    1. यह multiple-target को बियोंड विजुअल रेंज जाकर डिस्ट्रॉय करने में सक्षम है|
    2. इसके द्वारा Short-Range कंपैक्ट सिचुएशन को पूरी तरह हैंडल करने में महारत हासिल है|
  4. Rafale Fighter Jets में प्रयोग की जाने वाली इस मिसाइल सिस्टम में दो तरह के मिसाइल गाइडेड सिस्टम का यूज़ किया गया है |
  5. मिसाइल गाइडेड सिस्टम के प्रयोग से मीका मिसाइल के दो वेरिएंट उपलब्ध हैं –
    1. एयर टू एयर वेरिएंट |
    2. सरफेस टू एयर वेरिएंट |
  6. Air-to-Air वेरिएंट की रेंज 500 मीटर से 80 किलोमीटर तक है तथा यह MAC-4 यानी 4939 कि.मी. /घंटा की रफ्तार से आगे बढ़ने में सक्षम है |
  7. इस मिसाइल सिस्टम में साइलेंट सीकर्स के प्रयोग के कारण यह मिसाइल stealthy इंटरसेप्शन कैपेबिलिटी से लैस है |
  8. इसी क्षमता के कारण यह मिसाइल अपने टारगेट को गोपनीय तरीके से इंटरसेप्ट करने में कामयाब रहती है |
  9. stealthy इंटरसेप्शन कैपेबिलिटी होने के कारण इसे इंटरसेप्शन कॉम्बैट या सेल्फ डिफेंस मिसाइल सिस्टम के तौर पर ज्यादातर प्रयोग किया जाता है |

Indian Submarine Vela | INS Vela स्‍टील्‍थ क्षमता से लैस

Rafale Fighter Jet to Be Equipped with These Missiles | राफेल फाइटर जेट इन मिसाइलों से लैस होगा

भारत सरकार द्वारा देश की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए तथा फ्रांश से प्राप्त विमानों की मारक क्षमता को घातक बनाने के उदेश्य से हैमर मिसाइल की खरीद की मंजूरी प्रदान की गयी है | इस मिसाइल के भारतीय वायुसेना में शामिल होने मात्र से वायुसेना की ताकत कई गुना बड जाएगी |

Hammer Missile System की विशेषता क्या है?

इस मिसाइल का पूरा नाम Highly Agile Modular Munition Extended Range मिसाइल है | जिसे इंडियन एयर फोर्स द्वारा चीन को ध्यान में रखते हुए खरीद की मंजूरी प्रदान की गयी है | जिसकी निम्न विशेषताएँ हैं –

Hammer Missile System
  1. हैमर missile एक मीडियम रेंज मिसाइल है, जिसे हवा से जमीन पर दागा जा सकता है |
  2. इस मिसाइल का प्रयोग फ्रांस द्वारा अपने मिराज 2000 तथा राफेल जेट में किया जाता है |
  3. यह मिसाइल ऊंचाई वाले क्षेत्रों में लगभग 60 किलोमीटर के रेंज पर टारगेट को हिट करने में सक्षम है |
  4. यह मिसाइल भी फायर एंड फॉरगेट के सिद्धांत पर आधारित है |
  5. इस मिसाइल की लेंथ 3 मीटर तथा वजन लगभग 330 किलोग्राम है |
  6. यह मिसाइल आधुनिक नेविगेशन सिस्टम यूज करती है | जिसकी वजह से यह मूविंग तथा स्टेबल टारगेट को आसानी से डिस्टर्ब करने में सक्षम है |
  7. हैमर मिसाइल के सामने के हिस्से में एक गाइडेड किट का प्रयोग किया गया है | इस गाइडेड किट के अंतर्गत जीपीएस इंफ्रारेड तथा लेजर आदि चीजों को सम्मिलित किया गया है |
  8. इस मिसाइल के जरिए 125 किलोग्राम से 500 किलोग्राम तक के बमों से टारगेट को डिस्ट्रॉय किया जा सकता है |
  9. यह मिसाइल ऑल वेदर, डे और नाइट तथा एनीटाइम टारगेट को हिट करने में सक्षम है |
  10. राफेल जेट में एक बार में 6 हैमर मिसाइल का यूज किया जा सकता है |

UAPA Amendment Bill 2019 in Hindi | UAPA अमेन्डमेंट बिल 2019

वायु सेना में Rafale Fighter Jets

भारतीय वायु सेना द्वारा राफेल जेट को बेड़े में शामिल करने के लिए जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किए गए हैं | वर्तमान में 5 राफेल फाइटर जेट्स फ्रांश से प्राप्त हुए हैं, जिन्हें अंबाला एयर फोर्स स्टेशन पर तैनात किया गया है | माह अप्रैल 2022 तक सभी 36 राफेल जेट के भारत को मिलने की संभावना व्यक्त की जा रही है |

देश को मिलने वाले 36 राफेल जेट में से 18 को हरियाणा के अंबाला एयर फोर्स स्टेशन पर तैनात किया जाएगा | बाकी शेष 18 विमान को पूर्वोत्तर में पश्चिम बंगाल के हासीमारा एयर फोर्स स्टेशन पर तैनात किया जा सकता है |

Rafale Fighter Jet for India से संबंधित परीक्षा उपयोगी मुख्य तथ्य

राफेल फाइटर जेट की फ्रांस से भारत तक पहुँचने की पूरी जानकारी निम्नानुसार है नीचे दी गयी जानकारी आपको इस विषय से संबंधित पुर्ण ज्ञान प्रदान करेगी आइए जानते हैं|

  1. भारत सरकार द्वारा वायुसेना की जरूरत को ध्यान में रखते हुए वर्ष 2016 में फ्रांस के साथ कुल 36 Rafale Fighter Jets खरीद की डील साइन की थी |
  2. इस डील के अंतर्गत इन 36 राफेल जेट्स का सौदा भारत सरकार द्वारा 59000 करोड रुपए में किया गया था |
  3. 29 July 2020 तक भारत सरकार को फ्रांस की इस कंपनी द्वारा कुल 10 राफेल फाइटर जेट हैंड ओवर किये जा चुके हैं |
  4. इनमें से 5 राफेल जेट फ्रांस में ही मौजूद हैं, जिनका प्रयोग भारतीय एयरफोर्स के पायलटों को ट्रेनिंग प्रदान करने हेतु किया जा रहा है |
  5. अभी वर्तमान में फ्रांस में लगभग 30 पायलट Rafale Fighter Jets को उड़ाने की ट्रेनिंग ले रहे हैं|
  6. राफेल फाइटर जेट एक उन्नत किस्म का फाइटर जेट है, जिसका निर्माण फ्रांस की द साल्ट एविएशन कंपनी द्वारा किया जाता है |
  7. फाइटर जेट राफेल के wings की कुल लंबाई 10.9 मीटर है |
  8. इस लड़ाकू फाइटर जेट की कुल लंबाई 15.3 मीटर है |
  9. जमीन से राफेल की ऊंचाई लगभग 5.3 मीटर है |
  10. Rafale Fighter Jets 1 मिनट में 18288 फीट की ऊंचाई तक पहुँच सकता है |
  11. राफेल विमान द्वारा अधिकतम 50000 फीट की ऊंचाई तक उड़ान भरी जा सकती है |
  12. राफेल विमान की टॉप स्पीड लगभग 2450 कि.मी./ घंटा है |
  13. इस विमान की एवरेज स्पीड लगभग 1389 कि.मी./ घंटा है |
  14. एक बार में उड़ान भरने के दौरान यह विमान 24500 किलोग्राम तक का वजन उठा सकता है |
  15. इस विमान द्वारा 100 किलोमीटर की रेंज में लगभग 40 टारगेट को एक साथ हिट करने की क्षमता है |
  16. Rafale Fighter Jets 1 मिनट में लगभग 2500 राउंड फायर कर सकता है |
  17. इस विमान की ऊपर की ओर क्लाइंबिंग रेट 300 मीटर/सेकंड है |
  18. इस विमान में हवा से हवा में ईंधन भरने की सुविधा उपलब्ध है तथा यह एक बार उड़ान भरने के बाद लगभग 10 घंटे तक हवा में रह सकता है |
  19. 29 July 2020 को पहली बार 5 राफेल जेट्स द्वारा भारत के अंबाला एयरबेस पर लैंडिंग की गई |
  20. फ्रांस से भारत की ओर उड़ान भरने के लिए पांचो राफेल जेट्स द्वारा फ्रांस के मैरीनेक एयरबेस से उड़ान भरी गई |
  21. फ्रांस से उड़ान भरने के दौरान बीच रास्ते में Rafale Fighter Jets ने प्रथम लैंडिंग यूके के अलडाफरा एयर बेस पर की |
  22. फ्रांस से अलडाफरा एयर बेस तक पहुंचने हेतु राफेल फाइटर जेट द्वारा 7 घंटों का सफर तय किया गया |
  23. राफेल जेट द्वारा फ्रांस से भारत के मध्य लगभग 7364 किलोमीटर की दूरी तय की गई |
  24. पांचो Rafale Fighter Jets को सुरक्षित भारत तक पहुँचाने का कार्य भारतीय वायुसेना के सात पायलटों द्वारा पूर्ण किया गया |
  25. वर्ष 2009 में सौर्य चक्र से सम्मानित ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह द्वारा सात पायलटों की इस टीम को लीड किया गया |
  26. कश्मीर के हिलाल अहमद प्रथम भारतीय पायलट हैं, जिनके द्वारा सर्वप्रथम Rafale Fighter Jets को उड़ाया गया |
  27. फ्रांस सरकार द्वारा केवल दो सीरीज के विमान ही भारतीय वायुसेना को प्रदान किये जा रहे हैं :-
    1. BS Series राफेल जेट, जिनकी कुल संख्या 30 है | इस सीरीज के प्रथम दो अक्षर BS भारत के पूर्व वायु सेना अध्यक्ष बीरेंद्र सिंह धनोआ के नाम पर आधारित हैं | ये सिंगल सीटर विमान हैं |
    2. RB003 Series राफेल जेट, इनकी कुल संख्या 6 है | ये दो सीटर ट्रेनर फाइटर जेट हैं तथा इस सीरीज के सामने के शुरुआती दो अक्षर RB वर्तमान भारतीय वायुसेना अध्यक्ष राकेश सिंह भदोरिया के नाम पर आधारित हैं |
  28. Rafale Fighter Jets में लगभग 350 किलोमीटर मारक क्षमता की Meteor मिसाइल, 150 किलोमीटर की मारक क्षमता वाली हैमर मिसाइल, 80 किलोमीटर मारक क्षमता की MAC मिसाइल सिस्टम तथा 500 किलोमीटर रेंज तक मार करने में सक्षम Scalp मिसाइल का प्रयोग किया जा सकता है |
  29. फ्रांस से प्राप्त पांचो Rafale Fighter Jets द्वारा अंबाला एयर बेस पर 29 July 2020 को लैंडिंग की गई |
  30. अंबाला एयरवेज की स्थापना वर्ष 1919 में की जाकर वर्ष 1938 में स्थाई एयरबेस घोषित किया गया |
  31. अंबाला एयरबेस पर वर्ष 1948 में फ्लाइट ट्रेनिंग स्कूल की स्थापना की गई |
  32. सर्वप्रथम अंबाला एयरबेस पर जगुआर, मिग 21, बायसन आदि विमानों की तैनाती की गई थी |
  33. मिराज 2000 द्वारा अंबाला एयरबेस से ही ऑपरेशन सफ़ेद सागर की सुरुआत की गई थी |
  34. इसके अलावा बालाकोट एयर स्ट्राइक में भी अंबाला एयरबेस ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी

Conclusion

इस पोस्ट में हमने आपको भारतीय वायुसेना में शामिल किये गए राफेल फाइटर जेट से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी देने की कोसिस की है | केवल 5 Rafale Fighter Jets के वायुसेना में शामिल होने मात्र से ही दुश्मनों की हालत ख़राब है | हो भी क्यों न आज राफेल जेट भारतीय वायुसेना का शानदार चमकता हुआ सितारा है | जिसकी आहाट मात्र से ही दुश्मनों की सांसें रुक जाती हैं |

Give a Comment