Indian Air Force Recruitment | इंडियन एयर फोर्स रिक्रूटमेंट

भारतीय वायुसेना में देश के योग्यी एवं काबिल, होनहार युवाओं को अपना कैरियर बनाने का अवसर प्रदान करने की प्रक्रिया ही Indian Air Force Recruitment कहलाती है।

भारतीय वायुसेना विश्‍व की जानी मानी वायु सेनाओं में से एक है। इसमें रोमांचक कैरियर बनाने के लिए आपके पास सुनहरा अवसर मौजूद है।

इसमें कार्य करने वाला व्‍यक्ति सुपरसोनिक जेट, अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के बीच रहता है। इसके अलावा भारतीय वायुसेना का लिविंग स्‍टेंर्ड्ड सर्वोत्‍तम है, जो आप को अन्‍य लोगों से भिन्‍न बनाता है।

Indian Air Force Recruitment

यहॉं आपको सबसे आधुनिक सुख सुविधाऐं उपलब्‍ध कराई जाती हैं। भारतीय वायुसेना आपके कैरियर को ऊँचाई पर ले जाती ही है, इसके अलावा यह आपके परिवार के लिए एक सुरक्षित भविष्‍य भी उपलब्‍ध कराती है।

यदि हम इंडियन एयर फोर्स रिक्रूटमेंट की बात करते हैं, तो हम पाते हैं, कि यहॉं विभिन्‍न कैरियर के अवसर मौजूद होते हैं। वायुसेना में कैरियर दो क्षेत्रों में बटा हुआ है, तकनीकी तथा गैर-तकनीकी।

एक अधिकारी के तौर पर भारतीय वायुसेना में किसी भी व्‍यक्ति द्वारा रणनीतिक, नेतृत्व तथा प्रबंधन का कार्य किया जाता है।

यहॉं आपको सभी प्रकार की चुनौतियों से निपटने के लिए विभिन्‍न क्षेत्र एवं वातावरण में प्रशिक्षित किया जाता है।

इस क्षेत्र में आपको हमेशा अपना सबसे बेस्‍ट देना होता है, चाहे आप के द्वारा उन्नत लड़ाकू विमान उड़ाना हो या तकनीकी सहायता प्रदान करनी हो।

प्रारंभिक सलेक्‍शन प्रोसेस के बाद सलेक्‍ट किये गए उम्मीदवारों को वायु सेना के ट्रेनिंग सेंटर भेज दिया जाता है।

Indian Air Force ट्रेनिंग पीरियड़ के दौरान किसी एक ट्रेनिंग सेंटर में छटनी किये गए उम्‍मीदवारों को कठोर प्रशिक्षण से गुजरना होता है, जिसके बाद, उन्हें अधिकारी के रूप में कमीशन करते हुए किसी एक वायु सेना स्टेशन पर तैनात किया जाता है।

यह भी पड़ें: IPL Qualifier Round 2019| आईपीएल क्वालीफायर राउंड 2019

यह भी पड़ें:Indian Submarine Vela | इंडियन सबमरीन वेला

Indian Air Force mein kairiyar ke k‍ya avasar hain | भारतीय वायु सेना में कैरियर के क्‍या अवसर हैं?

भारतीय वायुसेना में अधिकारी के तैर पर कैरियर की काफी अच्‍छी संभावनाएं मौजू़द हैं।

कोई भी आवेदक अपनी शैक्षणिक योग्‍यता के आधार पर फ्लाइंग क्षेत्र, तकनीकी शाखा अथवा ग्राउंड ड्यूटी आदि क्षेत्रों में अधिकारी के तौर पर नौकरी कर सकता है।

Indian Air Force Recruitment के तहत तीनों शाखाओं में कैरियर संभावनाऐं

फ्लाइंग ब्रांच (Flying Branch) :-

Indian Air Force Recruitment के तहत फ्लाइंग ब्रांच में केरियर बनाने की इच्‍छा रखने वाले आवेदक को फाइटर पायलट, ट्रांसपोर्ट पायलट, हेलीकॉप्टर पायलट आदि के रूप में अपना केरियर बनाने का मौका मिलता है।

इस ब्रांच में कार्य करने वाले आवेदक को युद्ध तथा शांति दोनों ही परिस्थितियों में अपना कार्य सावधानी पूर्वक करना होता है।

एनसीसी स्‍पेशल ऐंट्री (पुरूष) कोर्स के माध्‍यम से Air Force Common Admission Online Test (AFCAT) देकर ऐयर फोर्स में फ्लाईंग के क्षेत्र में परमानेंट कमीशन पाया जा सकता है।

इसके अलावा Indian Air Force Recruitment के तहत स्‍नातक उम्‍मीदवार संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाने वाली कंबाइंड डिफेंस सर्विसेज एग्जामिनेशन (सीडीएस-क) के माध्‍यम से भी उड़ान शाखा में प्रवेश ले कर अपने केरियर का निर्माण कर सकते हैं।

12वीं परीक्षा पास करने के उपरांत भी अभ्‍यार्थी द्वारा एनडीए/एनए परीक्षा उत्तीर्ण कर फ्लाइंग ब्रांच में एडमिशन लेकर केरियर बनाया जा सकता है

यह भी पड़ें:Lok shabha Election 2019 | लोकसभा इलेक्शन 2019

यह भी पड़ें:Varuna Navel Exercise | वरुण नेवल युद्धाभ्यास

Indian Air Force तकनीकी शाखा (Technical Branch)

तकनीकी शाखा के तहत वायुसेना में केरियर बनाने की इच्‍छा रखने वाले आवेदक को मैकेनिकल अथवा इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में कार्य करने का अवसर प्राप्‍त होता है।

इन दोनों की ब्रांच का वायुयान के क्षेत्र में अहम योगदान होता है। इसके परिणाम स्‍वरूप उम्‍मीदवार को यहॉं दुनिया के कुछ सबसे परिष्कृत उपकरणों की देखभाल करने का अवसर प्राप्‍त होता है।

Indian Air Force Recruitment के तहत तकनीकी शाखा में अपना केरियर बनाने हेतु उम्‍मीदवार को  Air Force Common Admission Online Test (AFCAT) या University Entry Scheme (UES) विश्वविद्यालय प्रवेश योजना (यूईएस) के तहत जाना होता है।

यह भी पड़ें:International Awards to Modi | इन्टरनेशनल अवार्ड्स टू मोदी

यह भी पड़ें:Jammu Kashmir main Parshiman | जम्मू कश्मीर में परिसीमन

Indian Air Force ग्राउंड ड्यूटी शाखा

ग्राउंड ड्यूटी के तहत वायुसेना में केरियर बनाने की इच्‍छा रखने वाले आवेदक को प्रशासन, लेखा, लॉजिस्टिक्स, शिक्षा, मौसम विज्ञान के तौर पर कार्य करने का अवसर प्राप्‍त होता है।

इन सभी विभागों में कार्य करने के दौरान उम्‍मीदवार को मानवीय तथा भौतिक संसाधनों के अलावा विभिन्‍न फंड्स का मेनेजमेंट करने का अवसर प्राप्‍त होता है।

इसके अलावा उम्‍मीदवार को internal auditor अथवा air traffic controller की भूमिका निभाने का मौका भी मिल सकता है।

ग्राउंड़ ड्यूटी ब्रांच में केरियर का निमार्ण करने वाले इच्‍छुक उम्‍मीदवार को Air Force Common Admission Online Test (AFCAT) परीक्षा क्‍वालीफाई करनी होती है।

यह भी पड़ें:Cricket World Cup Final 2019 | क्रिकेट वर्ल्ड कप फाइनल 2019

यह भी पड़ें:Chamki Bukhar Kya hai | चमकी बुखार क्या है?

Sakshadik Yogyata ke Aadhar per IAF Adhikari Banane ki Sambhawanaye | शैक्षणिक योग्यता के आधार पर, IAF में अधिकारी बनने की संभवनाएं

Indian Air Force Recruitment के तहत भारतीय वायुसेना में एक अधिकारी के तौर पर शामिल होने की चाह रखने वाले सभी प्रकार की योग्‍यता रखने वाले उम्‍मीदवारों के पास यकीनन पर्याप्‍त मौके मौजूद हैं।

इसके लिए विभिन्‍न संस्‍थाओं द्वारा आयोजित की जाने वाली एंट्रेंस परीक्षाओं को पास करना आवश्‍यक होता है। अपनी-अपनी योग्‍यता के आधार पर उम्‍मीदवार योग्‍य पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।

विभिन्‍न योग्‍यता धारक उम्‍मीदवारों हेतु उनकी योग्‍यता के आधार पर वायु सेना का हिस्‍सा बनने हेतु आवश्‍यक प्राथमिक परीक्षाएं:-

12th Pass Hetu Vayu Sena mein Kairiyar ki Sambhavana |12वीं पास हेतु वायुसेना में कैरियर की संभावना क्‍या हैं?

भारतीय वायु सेना में कैरियर हेतु एक अधिकारी के तौर पर शामिल होने की चाह रखने वाले भौतिकी तथा गणित विषय के साथ 50% अंकों से 12वीं पास उम्‍मीदवार को नेशनल डिफेंस एकेडमी (NDA) और नेवल एकेडमी (NA) परीक्षा पास करनी होती है।

यूपीएससी इस परीक्षा को पूरे देश में वर्ष में दो कंडक्‍ट करती है। इस परीक्षा को पास करने के उपरान्‍त संबंधित उम्‍मीदवार वायुसेना में ट्रेनिंग पूरी करने के पश्‍चात कमीशंड ऑफीसर के रूप में पोस्‍टेड किया जाता है।

Indian Air Force Recruitment के तहत नेशनल डिफेंस एकेडमी (NDA) और नेवल एकेडमी (NA) परीक्षा में यदि कोई उम्‍मीदवार प्रारंभिक चयन परीक्षा में शॉर्ट-लिस्‍ट कर लिया जाता है, तो उसे एनडीए, खडकवासला में 3 साल का सख्त प्रशिक्षण लेना होता है।

इस प्रशिक्षण में खरा उतरने के बाद उम्‍मीदवार को अधिकारी के रूप में कमीशन करते हुए वायु सेना के स्‍टेशन पर तैनात करते हैं।

यह भी पड़ें:Kulbhushan Jadhav Tatha ICJ ka Nirnay | कुलभूषण जाधव तथा आईसीजे का निर्णय

यह भी पड़ें:Indian Premier League 2019 | इंडियन प्रीमियर लीग 2019

Graduate Hetu Vayu Sena mein Kairiyar ki Sambhavana |ग्रेजुऐट हेतु वायु सेना में कैरियर की संभावना

वायु सेना में एक अधिकारी के तौर पर कार्य करने हेतु स्‍नातक योग्‍यता रखने वाले पुरुष और महिलाएं उम्‍मीदवार को Air Force Common Admission Online Test (AFCAT) परीक्षा पास करने के बाद शॉर्ट-लिस्‍ट कर लिया जाता है।

इसके बाद शॉर्ट-लिस्‍ट किये गए उम्‍मीदवार को वायुसेना के प्रशिक्षण प्रतिष्ठानों में से किसी एक में सख्त प्रशिक्षण से गुजरना पढ़ता है।

प्रशिक्षण में खरा उतरने के बाद उम्‍मीदवार को अधिकारी के रूप में कमीशन करते हुए वायुसेना के स्‍टेशन पर तैनात किया जाता है।

इंजीनियर हेतु Indian Air Force Recruitment में कैरियर की संभावना

इंजीनियरिंग की डिग्री रखने वाले उत्‍साही तथा प्रतिबद्ध इंजीनियर उम्‍मीदवार Indian Air Force Recruitment के तहत वायुसेना अधिकारी के तौर पर हिस्‍सा बनने का मौका मिलता है।

इसके लिए उस Air Force Common Admission Online Test (AFCAT) तथा CDS परीक्षा उत्‍तीर्ण करनी होती है। इस परीक्षा में उत्‍तीर्ण एवं शॉर्ट-लिस्‍ट उम्‍मीदवारों को वायुसेना के किसी एक ट्रेनिंग सेंटर में कठिन प्रशिक्षण से गुजारा जाता है।

प्रशिक्षण पूर्ण करने पर उन्‍हें अधिकारी के तौर पर वायुसेना के स्‍टेशन तैनात किया जाता है। एक इंजीनियर के तौर वायु सेना में अपाका कैरियर शानदार होता है।

विश्‍वविद्यालय प्रेवश योजना के तहत भी इं‍जीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे अंतिम या पूर्व-अंतिम वर्ष के क्षात्रों को तकनीकी शाखा में प्रवेश पाने की पात्रता होती है।

इस संबंध में समय-समय पर समाचार पत्रों में विज्ञापन निकलते रहते हैं।

यह भी पड़ें:Article 370 in Hindi | अर्टिकल 370 इन हिन्दीं

यह भी पड़ें:Free main Website Kaise Banaye | फ्री में वेबसाइट कैसे बनाएं?

Post Graduate Hetu वायु सेना में कैरियर ki Sambhavana

पुरुष तथा महिला पोस्ट-ग्रेजुएट उम्‍मीदवार वायु सेना में ग्राउंड ड्यूटी में अपने कैरियर का निमर्ण कर सकते हैं।

इसके लिए उन्‍हें Air Force Common Admission Online Test (AFCAT) परीक्षा से होकर गुजरना होता है।

इसे उत्‍तीर्ण करने के बाद शॉर्ट-लिस्‍ट किये गए उम्‍मीदवार वायु सेना के ट्रेनिंग सेंटर ट्रेनिंग हेतु भेज दिए जाते हैं।

इसे पास करने के उपरांत इन्‍हें भी वायुसेना स्‍टेशन पर तैनात कर दिया जाता है।

Indian Air Force में कमीशंड अधिकारी को Milne Wale Vetan-Bhatte

Indian Air Force Recruitment के तहत भारतीय वायुसेना में कैरियर बनाने हेतु उम्‍मीदवार के पास फ्लाइंग क्षेत्र, तकनीकी शाखा अथवा ग्राउंड ड्यूटी आदि तीन ब्रांच में मौका मिलता है। इन्‍हीं तीनों शाखाओं में योग्‍यता के आधार उम्‍मीदवार अधिकारी बन सकता है।

वायु सेना में शामिल होने के लिए निर्धारित परीक्षाओं को पास करने के बाद उम्‍मीदवार को प्रशिक्षण हेतु भेज दिया जाता है।

प्रशिक्षण के दौरान अंतिम वर्ष से प्रशिक्षण अधिकारी को मासिक वजीफा 21000/- रूपए मिलना शुरू हो जाते हैं।

ट्रैनिंग पूरी होने के बाद प्रशिक्षण अधिकारी को कमीशन करते हुए वायु सेना स्‍टेशन पर पोस्टिंग प्रदान कर दी जाती है।

Commissioned Adhikari ka Mashik Vetan | कमीशंड अधिकारी का मासिक वेतन

कमीशंड अधिकारी का वेतन बैंड   : रु 15,600/-

ग्रेड पे                        : रु 5,400/-

सैन्य सेवा वेतन                 : रु 6000/-

महंगाई भत्ता @ 107 प्रतिशत   : रु 28,890/-

किट रखरखाव भत्ता           : रु 500/-

परिवहन भत्ता                : रु 3,200/- + डीए (प्रमुख शहरों में) या

                          : रु 1,600/- + डीए (अन्य शहरों में)

इन सबके अलावा भी अलग-अलग शाखाओं में कार्यरत अधिकारियों को कुछ अतिरिक्त भत्ते भी प्रदाय किये जाते हैं:-

फ्लाइंग ब्रांच अधिकारियों को प्रतिमाह अतिरिक्‍त फ्लाइंग अलाउंस     : रु 11,250/-

तकनीकी शाखा के अधिकारियों को प्रतिमाह अतिरिक्‍त तकनीकी भत्ता  : रु 2,500/-

इस प्रकार यदि हम संक्षेप में कहें, तो वायुसेना के अधिकारियों का मासिक वेतन पैकेज निम्‍नानुसार होगा:-

उड़ान शाखा के अधिकारियों को मासिक      : रु 74,264/-

तकनीकी शाखा के अधिकारियों को मासिक    : रु 65,514/-

ग्राउंड ड्यूटी शाखा के अधिकारियों को मासिक  : रु 63,014/-

यह भी पड़ें:Ayushman Bharat Yojana in Hindi | आयुष्मान भारत योजना इन हिन्दी

यह भी पड़ें:UAPA Amendment Bill 2019 UPSC | UAPA अमेन्डमेंट बिल 2019 यूपीएससी

Bhartiya vayu sena mein Airman ka karya | भारतीय वायुसेना में एयरमैन कार्य

भारतीय वायुसेना में एयरमैन एक ऐसा फील्‍ड आफीसर होता है, जिसका कार्य सभी हवाई तथा जमीनी कार्यों को सुचारू रूप से चलाना है।

एक एयरमैन ऑपरेटिंग एयर डिफेंस सिस्टम से लेकर फिटिंग मिसाइल तक के कार्यों में अहम सक्रीय भूमिका निभाता है।

वह विभिन्‍न अभियानों में अपना समर्थन देने के अलावा एयर बेस में होने वाली सभी क्रियाओं में सक्रिय रूप से शामिल होता है।

कोई भी उम्‍मीदवार अपनी योग्‍यता के आधार पर वायुसेना में अपने केरियर के रूप में तकनीकी या गैर-तकनीकी ट्रेड का चयन कर सकता है।

भारतीय वायुसेना के तहत कार्यरत सभी अधिकारियों/कर्मचारियों को नई ऊँचाइयों को छूने तथा लाईफ में आगे बढ़ने का अवसर प्रदान करती है।

यह भी पड़ें:Madhya Pradesh Rajya ka Gathan | मध्य प्रदेश राज्य का गठन

यह भी पड़ें:Chief of Defense Staff Kya hai | चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ क्या है?

IAF mein Kamishand Adhikari ya Airmain Hetu Nirdharit Aayu Seema | IAF में कमीशंड अधिकारी या एयरमैन हेतु निर्धारित आयु सीमा

वायु सेना अधिकारी के लिए निर्धारित आयु सीमा:-

  • NDA के लिए आवेदन करने वाले आवेदक की न्‍यूनतम आयु 16 वर्ष से कम तथा 19 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • Indian Air Force Recruitment के तहत स्नातक योग्‍यता धारक आवेदक को उड़ान शाखा में जाने के लिए न्‍यूनतम आयु 19 वर्ष से कम तथा 23 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • तकनीकी शाखा में स्‍नातक के तौर पर अपना केरियर बनाने हेतु उम्‍मीदवार की निर्धारित आयु सीमा 18 से 28 वर्ष रखी गई है।
  • इंजीनियरिंग में स्नातक योग्‍यता धारक आवेदक को तकनीकी शाखा में जाने के लिए न्‍यूनतम निर्धारित आयु 19 से 23 वर्ष के बीच में रखी गई है।
  • तकनीकी शाखा में इंजीनियरिंग स्‍नातक के तौर पर अपना केरियर बनाने हेतु उम्‍मीदवार की निर्धारित आयु सीमा 18 से 28 वर्ष रखी गई है।
  • तकनीकी शाखा में जाने के लिए स्नातकोत्तर योग्‍यता धारक व्‍यक्ति की उम्र 18 से 28 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • ग्राउंड ड्यूटी शाखा में जाने के लिए स्नातकोत्तर योग्‍यता धारक व्‍यक्ति की उम्र 20 से 25 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • Indian Air Force Recruitment के तहत इंजीनियरिंग में स्नातक योग्‍यता धारक आवेदक को ग्राउंड ड्यूटी शाखा में जाने के लिए निर्धारित आयु 20 से 25 वर्ष के बीच में होनी चाहिए।
  • स्नातक योग्‍यता धारक आवेदक को ग्राउंड ड्यूटी शाखा में जाने के लिए न्‍यूनतम निर्धारित आयु 20 से 23 वर्ष के बीच में रखी गई है।

एयरमेन पद हेतु निर्धारिनत आयु सीमा:-

  • मैट्रिक या उससे नीचे के उम्मीदवारों हेतु एयरमेन के लिए 16 से 20 वर्ष के बीच में आयु निर्धारित की गई है।
  • डिप्लोमा योग्यता धारक उम्मीदवार के लिए भी 16 से 22 वर्ष के बीच आयु सीमा निर्धारित की गई है।
  • इस पद हेतु स्नातक आवेदक को 20 से 25 वर्ष की आयु के बीच में होना चाहिए।
  • इसी प्रकार इस पद हेतु स्नातकोत्तर आवेदक को 20 से 28 वर्ष के बीच में होना चाहिए।

यह भी पड़ें:Motor Vehicle Act 2019 | मोटर व्हीकल एक्ट 2019 क्या है?

यह भी पड़ें:Samagra ID Pahchan Kya Hai | समग्र आईडी पहचान क्या है?

शैक्षणिक योग्‍यता के अलावा वायुसेना हेतु आवश्यक अन्‍य योग्यता

फ्लाइंग में अपना केरियर चाहने वाले आवेदक के पास स्‍कूली शिक्षा के अलावा भी अन्‍य विशेष प्रकार की योग्‍यता होनी चाहिए।

वायु सेना अपने आप में कई जोखिमों, बाधाओं तथा रोमांच से परिपूर्ण होती है।

इसलिए भारतीय वायुसेना में अपना केरियर बनाने की चाह रखने वाले युवाओं को काफी सोच समझकर दृण निश्‍चय के साथ आगे बढ़ना चाहिए।

वायुसेना में केरियर की चाह रखने वाले आवेदक में आवश्‍यक गुण

  • आवेदक को साहसी होने के साथ ही रोमांच की भावना होनी चाहिए।
  • उसे जोखिम उठाने की भावना से पूर्ण होना, तात्‍पर्य जरूरत के समय राष्ट्र के लिए अपना जीवन का बलिदान भी दे सके।
  • आवेदक को मेहनती होने के साथ ही किसी भी प्रकार के तनाव का सामना करने की क्षमता होनी चाहिए।
  • यात्रा करने का शौकीन होने के साथ ही वह लंबे समय तक उड़न भरने में सक्षम होना चाहिए।
  • स्‍वभात में शांत तथा शारीरिक रूप से मजबूत होने के साथ त्‍वरित निर्णय लेने में सक्षम होना चाहिए।

Indian Air Force Recruitment हेतु आवेदन कैसे करें?

भारतीय वायुसेना हेतु संचालित सभी प्रकार के पाठ्यक्रमों में Indian air force recruitment के तहत भर्ती की प्रक्रिया नई दिल्ली स्थित मुख्यालय तथा रक्षा मंत्रालय द्वारा मिलकर की जाती है।

इसके लिए रक्षा मंत्रालय द्वारा देश के विभिन्न प्रमुख दैनिक समाचार पत्रों के साथ ही रोजगार समाचारों में विज्ञापन जारी किया जाता है।

विज्ञापन में दिये गए नीयम तथा शर्तों को पूर्ण करते हुए आवेदन करने तथा निर्धारित परीक्षा पास करने वाले उम्‍मीदवार का चयन वायु सेना हेतु संचालित किसी भी पाठ्यक्रम हेतु किया जा सकता है। 

यह भी पड़ें: Ayushman Bharat Yojana in Hindi | आयुष्मान भारत योजना इन हिन्दी

यह भी पड़ें:जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंसेज – जाने US ने क्यों GSP को समाप्त कर दिया?

Leave a Comment