Keyword क्या है – What is Keyword?

दोस्तों आजकल आपने इंटरनेट पर देखा होगा कि बहुत सारी वेबसाइट चल रही हैं। जिसमें तरह-तरह की न्यूज़ तरह-तरह के एंटरटेनमेंट की खबरे आती हैं। उन सब को चलाने के लिए बहुत सारे चीजों की जरूरत पड़ती है। जैसे कि कीवर्ड या s.e.o. आज हम बात करने वाले हैं किवर्ड की, आखिर में keyword क्या है और यह
SEO के लिए जरूरी क्यों है। ऐसे तो बहुत सारे ब्लॉगर्स ने आपको keyword के बारे में बहुत कुछ बताया होगा, परंतु आज हम आपको सही जानकारी कीवर्ड के बारे में देंगे।

अगर आप beginner है तो आपने सुना होगा कि अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को traffic देने के लिए या पेज का रैंक बढ़ाने के लिए कीवर्ड बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

Keyword क्या है

चलिए अब हम आपको बताते हैं कि कीवर्ड क्या है। असल में कीवर्ड एक phrases या एक सेंटेंस है। जैसे कि आप अपने आर्टिकल को डिस्क्राइब करने के लिए ऊपर एक छोटा सा टाइटल का इस्तेमाल करते हैं।जैसे कि “keyword क्या है” ये एक सेंटेंस है इसी को ब्लॉगिंग या वेबसाइट की भाषा में कीवर्ड कहा जाता है।

अगर आप पहली बार ब्लॉगिंग वेबसाइट बना रहे हैं तो आपको एक सरल उदाहरण से पूरा समझाते हैं अगर आपको महात्मा गांधी के ऊपर एक essay लिखने को दिया जाए तो आप गूगल पर जाकर कुछ इस तरह से सर्च करेंगे। essay on महात्मा गांधी इन हिंदी। या फिर आप लिखेंगे महात्मा गांधी पर निबंध यह दोनों ही आपके कीवर्ड माने जाएंगे।

इसे आप phrases कहेंगे ना कि आप इसे पोस्ट का टाइटल बोलेंगे। यह वह है जिसके जरिए आप अपनी साइड के ट्रैफिक को बढ़ाने में मदद ले सकते हैं। जिस टॉपिक के ऊपर आप लिखने वाले हैं वह भी एक कीवर्ड है अगर आप eco फ्रेंडली आर्टिकल लिखना चाहते हैं।जो आपको एक phrases पूरी तरह से टारगेट करना पड़ेगा और टारगेट phrase हम टारगेट कीवर्ड भी कहते है। जब आप गूगल पर कोई भी एक particular चीज को सर्च करते हो और उस पर बहुत सारी Queries के रिजल्ट दिखाई देते हैं उन्हें भी आप की वर्ड कह सकते हो।

What is keyword

कीवर्ड कितने तरह के होते है


कीवर्ड केवल दो तरह के होते हैं एक ही वर्ड होता है सिंगल keyword और दूसरा keyword होता है long-tail keyword।

  1. Single tail keyword
    सबसे पहले बात करते हैं सिंगल कीवर्ड की। जैसा कि नाम से ही
    पता लग रहा है कि सिंगल वर्ड जो कि हम इंटरनेट पर सर्च इंजन मेंसर्च करते हैं उसे सिंगल कीवर्ड बोलते हैं। चलिए अब आपको हम सिंगल की वर्ड example से समझाते हैं। मान लीजिए आप ने इंटरनेट पर फेसबुक वर्ड को सर्च किया, तो फेसबुक से रिलेटेड बहुत सारे रिजल्ट आपको pages पर दिखाई देंगे। चाहे वह फेसबुक पेज हो, फेसबुक को किसी प्रोडक्ट का नाम हो या फेसबुक किसी जगह का नाम है। वह सब आपको उस पेज पर दिखाई देंगे। अगर इसके कंपटीशन की बात की जाए तो ज्यादातर लोग ब्लॉग पर यह एक ही कीवर्ड से seo इस्तेमाल करते हैं। इसलिए इसका कंपटीशन बहुत ज्यादा होता है अगर आप बिगनर है तो आपको शॉट टेल कीवर्ड के साथ अपना आर्टिकल नहीं लिखना है।
  1. Long tail keyword
    अब बात करते हैं long-tail कीवर्ड की, तो जब हम इंटरनेट के सर्च इंजन में किसी कीवर्ड के समूह को यानी कि किसी वर्ड के समूह को दो-तीन वर्ड्स को एक साथ सर्च करते हैं ल, तो उसे long-tail
    कीवर्ड कहा जाता है।
    उदाहरण के तौर पर अगर आप सर्च इंजन में क्रिएट फेसबुक पेज लिखकर सर्च करेंगे, तो यह तीन कीवर्ड एक साथ सर्च माना जाएगा और रिजल्ट में आपको इन तीनों वर्ड के अलग-अलग रिजल्ट सामने आएंगे। इसे long-tail कीवर्ड कहते हैं। long tail कीवर्ड के साथ अगर आप अपना आर्टिकल लिखते हैं यानी कि 3 वर्ड या 4 वर्ड के साथ आप अपना आर्टिकल लिखते हैं तो आपका कंपटीशन भी कम रहेगा और आर्टिकल भी रैंक करेगा.

कीवर्ड हमारे ब्लॉग के SEO के लिए क्यों जरुरी है

कीवर्ड का हमारे ब्लॉग के SEO के लिए बहुत ही जरुरी है –

1 – अगर आपको कीवर्ड सही से पता है और आप उसे अच्छी तरह से रिसर्च करके आर्टिकल के अंदर इस्तेमाल करेंगे तो आपको कुछ और करने की ज्यादा जरूरत नहीं है। ऑटोमेटिक आपका आर्टिकल गूगल के टॉप रैंक पर दिखाई देगा ।

2 – सिर्फ कीवर्ड का इस्तेमाल आर्टिकल के अंदर करने से वह गूगल के टॉप रैंक पर नहीं दिखाई देता है बल्कि अगर आपकी वर्ड का इस्तेमाल उसकी सही जगह पर करेंगे, तो गूगल के कॉलर को यह पता चलेगा कि आप किस topic पर आर्टिकल लिख रहे हैं। तभी वह आपके आर्टिकल को गूगल के टॉप रैंक में शो
करवाता है।

3- बहुत से कम लोग होते हैं जिनको SEO के बारे में पता होता है। परंतु कीवर्ड के बारे में सभी को रिसर्च करने पर पता चल जाता है। अगर आपको SEO के बारे में ज्यादा नहीं आता। परंतु आपके अंदर कीवर्ड सर्च करने की खूबी है तो आधे से ज्यादा काम आपका समझो हो गया, ऑटोमेटिक आपकी पेज रैंकिंग टॉप पर होने लगेगी। बशर्ते आप का कीवर्ड क्या है उसका कंपटीशन कितना है और आपने उसे कहां इस्तेमाल किया है यह बहुत जरूरी है।

Leave a Comment