भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

भारत रत्न: भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान | 48 भारत रत्न विजेता लिस्ट

देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान(भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान) भारत रत्न असाधारण राष्ट्रीय सेवाओं के लिए प्रदान किया जाने वाला पुरूस्‍कार है। इन सेवाओं के अंतर्गत कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा और खेल आदि को शामिल किया गया है। इससे पूर्व इसमें खेलों को शामिल नहीं किया गया था, लेकिन बाद में खेलों को भी इस सूची में शामिल कर लिया गया। हमारे देश में भारत रत्न सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 को तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के द्वारा किया गया था।

भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न
भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

जब भारत रत्न सम्मान की शुरुआत की गई थी, तो इसमें मरणोपरांत किसी व्यक्ति को इस सम्मान से सम्मानित करने का प्रावधान नहीं रखा गया था, परंतु वर्ष 1955 के बाद इस प्रावधान को इसमें जोड़ दिया गया। तभी से यह सम्मान मरणोपरांत भी दिया जाने लगा है। भारत रत्न सम्मान एक वर्ष में अधिकतम तीन लोगों को ही दिया जा सकता है।

सर्व प्रथम वर्ष 1954 के दौरान चक्रवर्ती राजगोपालाचारी को पहली बार भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित करने वाले व्यक्ति को एक पदक दिया जाता है। इसमें तांबे के बने पीपल के पत्ते पर प्लैटिनम का चमकता सूर्य बनाया गया है। इसके नीचे चांदी में भारत रत्न लिखा गया है। इस पदक में सफेद फीता लगाया गया है।

भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान वर्ष 2019 भारत रत्न पुरस्कारों की घोषणा

25 जनवरी 2019 को राष्ट्रपति भवन की ओर से वर्ष 2019 हेतु तीन हस्तियों को भारत रत्न(भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान) से सम्मानित किये जाने की घोषणा की गई। जिनमें से प्रथम व्यक्ति हैं – प्रणब मुखर्जी मरणोपरांत दो अन्य लोगों को भारत रत्न 2019 हेतु चयन किया गया है, जिनमें से भूपेन हजारिका तथा नानाजी देशमुख शामिल हैं।

Bharat ka Mission Shakti 1 No.- भारत का अंतरिक्ष कार्यक्रम

देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न हेतु पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, मशहूर संगीतकार भूपेन हजारिका तथा आरएसएस से जुड़े नेता एवं समाजसेवी नानाजी देशमुख का चयन किया गया है।

भारत रत्न विजेता लिस्ट

48 भारत रत्न विजेता लिस्ट(भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान) अलग अलग categories मैं.

  1. डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन (देश के दूसरे राष्ट्रपति)
  2. चक्रवर्ती राजगोपालाचारी (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी
  3. डॉ. चन्द्रशेखर वेंकट रमन (नोबेल पुरस्कार विजेता, भौतिकशास्त्री)
  4. डॉ. भगवान दास (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, लेखक)
  5. डॉ. मौक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या (सिविल इंजीनियर, मैसूर के दीवान)
  6. पं. जवाहरलाल नेहरू (प्रथम प्रधानमंत्री)
  7. गोविंद वल्लभ पंत (स्वतंत्रता सेनानी, उप्र के पहले मुख्यमंत्री, देश के दूसरे गृहमंत्री)
  8. डॉ. धोंडो केशव कर्वे (शिक्षक और समाज सुधारक)
  9. डॉ. बिधान चन्द्र राय (चिकित्सक और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री)
  10. पुरुषोत्तम दास टंडन (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और शिक्षक)
  11. डॉ. राजेन्द्र प्रसाद (प्रथम राष्ट्रपति, स्वतंत्रता सेनानी, विधिवेत्ता)
  12. डॉ. जाकिर हुसैन (देश के तृतीय राष्ट्रपति)
  13. डॉ. पांडुरंग वामन काणे (भारतविद और संस्कृत के विद्वान)
  14. लाल बहादुर शास्त्री (देश के तीसरे प्रधानमंत्री, स्वतंत्रता सेनानी)
  15. इंदिरा गांधी (देश की चौथी प्रधानमंत्री)
  16. वराहगिरी वेंकट गिरी (देश के चौथे राष्ट्रपति)
  17. के. कामराज (स्वतंत्रता सेनानी, मुख्यमंत्री मद्रास)
  18. मदर टेरेसा (नोबेल पुरस्कार विजेता)
  19. आचार्य विनोबा भावे (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, समाज सुधारक)
  20. खान अब्दुल गफ्फार खान (स्वतंत्रता सेनानी, प्रथम अभारतीय)
  21. मरुदुर गोपाला रामचन्दम (अभिनेता, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री)
  22. डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर (भारतीय संविधान के वास्तुकार, राज‍नीतिज्ञ, अर्थशास्त्री)
  23. नेल्सन मंडला (नोबेल पुरस्कार विजेता)
  24. राजीव गांधी (देश के सातवें प्रधानमंत्री)
  25. सरदार वल्लभ भाई पटेल (देश के पहले गृहमंत्री, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)
  26. मोरारजी भाई देसाई (देश के पांचवें प्रधानमंत्री, स्वतंत्रता सेनानी)
  27. मौलाना अबुल कलाम आजाद (देश के प्रथम शिक्षा मंत्री, स्वतंत्रता सेनानी)
  28. जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा (जेआरडी टाटा)
  29. सत्यजीत रे (फिल्म निर्माता, निर्देशक)
  30. एपीजे अब्दुल कलाम (देश के 11वें राष्ट्रपति, वैज्ञानिक)
  31. गुलजारीलाल नंदा (दो बार कार्यवाहक प्रधानमंत्री)
  32. अरुणा आसिफ अली (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)
  33. एमएस सुब्बालक्ष्मी (शास्त्रीय संगीत गायिका)
  34. सी. सुब्रमण्यम (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)
  35. जयप्रकाश नारायण (स्वतंत्रता सेनानी)
  36. पंडित रविशंकर (सितार वादक)
  37. अमर्त्य सेन (नोबेल पुरस्कार विजेता)
  38. गोपीनाथ बोरदोलोई (स्वतंत्रता सेनानी)
  39. लता मंगेशकर (पार्श्व गायिका)
  40. उस्ताद बिस्मिल्ला खां (शहनाई वादक)
  41. पंडित भीमसेन जोशी (शास्त्रीय गायक)
  42. सचिन तेंडुलकर (भारतीय क्रिकेटर)
  43. सीएनआर राव (जाने-माने वैज्ञानिक व केमेस्ट्री के विशेषज्ञ )
  44. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ( जाने-माने राजनेता)
  45. पं. मदनमोहन मालवीय ( शिक्षाविद, समाज सुधारक)
  46. प्रणब मुखर्जी (राजनेता, पूर्व राष्ट्रपति)
  47. नानाजी देशमुख (समाजसेवी)
  48. भूपेन हजारिका (गीतकार, संगीतकार, कवि)

भारत रत्न से सम्मानित पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

भारत रत्न विजेता

11 दिसंबर 1935 को पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के किरनाहर शहर के अंतर्गत एक छोटे से गांव मेराटी में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का जन्म हुआ था। वर्ष 1969 में पहली बार व राज्यसभा सदस्य के रूप में चुने गए। 35 वर्ष की उम्र में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के द्वारा उन्हें राज्यसभा के सदस्य के रूप में मनोनीत किया गया। इसके बाद वे वर्ष 1975, 1981 1993 तथा 1999 में राज्यसभा के लिए निर्वाचित किए गए तथा वर्ष 1974 में उन्हें केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री बनने का मौका मिला।

इसके बाद वह 8 बार कैबिनेट मंत्री रहे, जहां उन्हें वित्त मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, रक्षा और वाणिज्य मंत्रालय आदि की जिम्मेदारी संभालने का मौका मिला। तत्पश्चात वे भारत के राष्ट्रपति बने। उनके द्वारा राष्ट्रपति पद हेतु 25 जुलाई 2012 से 25 जुलाई 2017 तक पदभार संभाला गया।

भूपेन हजारिका मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित

भारत रत्न विजेता

8 सितंबर 1926 को असम में भूपेन हजारिका का जन्म हुआ था। उनके 10 भाई-बहन थे। भूपेन हजारिका उन में सबसे बड़े थे। उनका बचपन गुवाहाटी में ही व्यतीत हुआ था। वर्ष 1936 में 10 वर्ष की आयु में भूपेन हजारिका के द्वारा कोलकाता में अपना पहला गाना रिकॉर्ड कराया गया था। उनके द्वारा ज्योतिष प्रसाद की फिल्म इंद्रमालती के लिए दो गाने गाये तथा 13 वर्ष की आयु में ही उनके द्वारा अपना पहला गाना लिखा गया।

इसी आयु के बाद उनके द्वारा सिंगर, कंपोजर तथा लिरिसिस्ट बनने की शुरुआत की गई। वर्ष 1942 के दौरान उनके द्वारा आर्ट विषय से इंटर की पढ़ाई पूरी करने के बाद बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से उन्होंने M.A. की पढ़ाई पूरी की। उनके द्वारा अपने कैरियर में 1000 गाने तथा 15 किताबें लिखी गईं। उन्होंने रुदाली, मिल गई मंजिल, मुझे, साज, दरमियां, गजगामिनी, दमन, कथा तथा क्यों जैसी सुपरहिट फिल्मों में अपने गीत दिए।

म्यूजिक क्षेत्र में उनके द्वारा दिए गए योगदान के लिए उन्हें वर्ष 1975 में राष्ट्रीय पुरस्कार तथा 1992 में सिनेमा जगत के सर्वोच्च दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसके अलावा उन्हें वर्ष 2011 में पद्मभूषण से भी सम्मानित किया गया था।

मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित नानाजी देशमुख

भारत रत्न विजेता

11 अक्टूबर 1916 को नानाजी देशमुख का जन्म हुआ था। वह एक महान समाजसेवी के रूप में जाने जाते हैं। उन्होंने अपने प्रारंभिक जीवन में काफी संघर्ष किया। उनके द्वारा बिरला इंस्टीट्यूट से उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बाद वर्ष 1930 के दशक में आर.एस.एस में शामिल हो गये।

नानाजी देशमुख भारतीय जन संघ से जुड़े हुए व्यक्ति थे। उनके द्वारा वर्ष 1977 में जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद मंत्री पद अस्वीकार किया गया तथा जीवन भर दीनदयाल शोध संस्थान के अंतर्गत चलने वाले विभिन्न विकल्पों के विस्तार के लिए कार्य किया जाने लगा।

अटल बिहारी वाजपेई(भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान Mila) सरकार के दौरान उन्हें राज्यसभा सदस्य के लिए मनोनीत किया गया। इसी दौरान उन्हें शिक्षा, स्वास्थ्य तथा ग्रामीण स्वावलंबन के क्षेत्र में अनुकरणीय योगदान हेतु पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 27 फरवरी 2010 को चित्रकूट में उनका निधन हो गया।

Give a Comment